Follow US On Facebook

Ayurvedic Benifits Of Khajur | Acharya Balkrishna Video

PLAY
 
All credits go to their respective owners.
Description:
पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी ने इस विडियो में खजूर के बारे में बताया है.

कफ की बीमारी में खजूर का प्रयोग – जिनको कफ की शिकायत रहती है वे
15 -20 खजूर का बीज निकाल ले और उसको [खजूर] दूध में पकाये जब दूध गाढ़ा हो जाये तो उसका सेवन करे इससे कफ संबंधी सभी बीमारियाँ दूर हो जायेगा जीनको मूत्र संबंधी रोग है किडनी में परेशानी की सम्भवना है तो 4-5 ग्राम खजूर को चबाकर खाये यदि गर्मी का मौसम है तो खजूर को रात को लेकर भिगो दे सुबह बीज निकालकर चबाकर खाये खजूर को रात को भिगोकर खाने से उसकी गर्मी ख़त्म हो जाती है और यदि गर्मी है तो खजूर को दूध में सेवन करे यह किडनी के लिए बहुत ही लाभकारी है

सौंदर्य में खजूर का प्रयोग – जिनके चेहरे पर झाईया ,फुंसी है वे खजूर के फल को घिसकर चेहरे पर लगाये इससे चेहरे की झाईया व फुंसी में लाभ मिलेगा और चेहरे की कांति भी बढ़ेगी
यदि आपको आँखों की परेशानी है दर्द है तो खजूर के फल को घिसकर आँखों के ऊपर भौहो पर लगाये इससे आँख संबंधी परेशानियों में लाभ मिलेगा यदि आपको प्रमेह की शिकायत है तो खजूर की 3-4 पत्तियों को कुटकर शरबत बनाकर नियमित रूप से 15-20 दिनों या 1-2 माह तक सेवन करे इससे प्रमेह की शिकायत दूर होगी और जिनको धातु रोग है उनके लिये भी यह अत्यंत ही लाभकारी है.
ऐसे छोटे बच्चे जो रात में बिस्तर गिला करते है उनके लिए 2-3 खजूर को दूध में उबाले जब दूध गाढ़ा हो जाये तो बच्चे को पिला दे इससे बिस्तर में पेशाब करने की आदत दूर हो जाएगी जिनको खून की कमी है वे लोग खजूर के फल का सेवन करने से खून की कमी दूर होगी जिनका पेट साफ नहीं होता वे यदि खजूर के फल को दूध में पकाकर नियमित रूप से सेवन करने से पेट साफ़ रहेगा और कब्ज नहीं होगा इससे पेट संबंधी सभी परेशनी दूर होंगे
जिनको अस्थमाँ की शिकायत है साँस फूलती है उनके लिए खजूर पथ्य है यदि खजूर को चबाकर उपर से दूध पी ले तो उनको अस्थमा के दौरे पड़ने की संभवना कम रहेगी.
Duration: 22 Minute, 52 Second
Rating: 4.26 - Very Good
Definition: SD
Published: 7 Years Ago

Related Video

पेट रोग
 7 Years Ago
Next